श्रीमद् भागवत गीता क्या है?
|

Bhagwat Geeta in Hindi PDF | संपूर्ण श्रीमद्भगवद्गीता PDF in Hindi

Bhagwat Geeta in Hindi PDF | संपूर्ण श्रीमद्भगवद्गीता PDF in Hindi

Bhagwat Geeta in Hindi PDF : श्रीमद भगवत गीता (Bhagwat Geeta)के बारे में हम सभी जानते हैं कि श्रीमद भगवत गीता के अंदर श्री कृष्ण भगवान के द्वारा कही गई दिव्य वाणी है। इस रहस्य ग्रंथ का अर्थ भगवान मुकुंद की कृपा से ही समझ में आता है। यह आज के समय में देश काल, संप्रदाय, लिंग, और सभी बंधनों से मुक्त सार्वभौम ग्रंथ है। गीता में परम गति प्राप्त करने के लिए अनेक साधन बताए गए हैं। वही अपनी अपनी रूचि के अनुसार मनुष्य किसी भी साधन को अपनाकर इस प्रयोजन हेतु अपना मनोरथ सिद्ध कर सकते हैं।

श्रीमद् भागवत गीता क्या है?

श्रीमद् भागवत गीता क्या है?

आज श्रीमद् भागवत गीता (Bhagwat Geeta) हिंदुओं के सबसे पवित्र ग्रंथों में से एक माना जाता भगवत गीता एक प्राचीन भारतीय दार्शनिक ग्रंथ जिसमें 8 अध्याय और कुल 700 श्लोक हैं। महाभारत के समय जब कौरव और पांडवों के बीच में युद्ध शुरू होता है तब पांडव में अर्जुन युद्ध करने से मना कर देता है और वह अपने भाइयों और अपने मित्र बंधुओं पर वार नहीं करना चाहता है, तब श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को कुछ उपदेश दिए गए हैं वही आगे चलकर इस लोक के रूप में श्रीमद्भागवत गीता में बताए गए हैं।

श्रीमद्भागवत गीता उपदेश

श्रीमद्भागवत गीता(Bhagwat Geeta) में कृष्ण द्वारा जो उपदेश दिए गए हैं, उसमें कर्मों का धर्म के सच्चे ज्ञान से अवगत कराया गया है या महाभारत के भीष्म पर्व के अंतर्गत दिया गया एक उपनिषद है। भगवद गीता के शीर्षक में गीता का अर्थ है “गीत।” धार्मिक नेता और विद्वान भगवद शब्द की कई तरह से व्याख्या करते हैं। तदनुसार, आस्तिक विद्यालयों द्वारा शीर्षक की व्याख्या “ईश्वर के वचन”, “भगवान के शब्द”, “दिव्य गीत”, और “आकाशीय गीत” के रूप में की गई है।

See also  सम्पूर्ण बजरंग बाण PDF | बजरंग बाण पाठ – दोहा और चौपाई | Bajrang Baan PDF in Hindi. 

भगवत गीता में बताए गए युद्ध को आप मानव जीवन के लिए एक रूपक के रूप में मान सकते हैं, जो इसे पढ़ने वाले को ईश्वर सब के उद्देश्य और मुक्ति की समझ प्राप्त हो जाती है। इसके माध्यम से आप कई तरह से निपुण हो जाते हैं और अपनी आत्मा और शरीर के मतभेद को भी दूर कर सकते हैं।

भगवत गीता का मुख्य उद्देश्य

भगवत गीता में श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को जो उपदेश दिए गए हैं। उसमें 18 बातों को अपनाया गया है जो भी व्यक्ति इन 18 बातों को अपने जीवन में उतारता है। वह सभी सुख को और भाषाओं क्रोध लोभ मोह और लालच से मुक्त हो जाता है।

भगवत गीता पढ़ने से क्या लाभ होता है

वैसे माना जाता है कि भगवत गीता पढ़ने से मनुष्य के जीवन में नई दिशा और ज्ञान की प्राप्ति होती है। वही गीता पढ़ने वाले व्यक्ति को सच और झूठ और ईश्वर जीव का ज्ञान हो जाता है। उसे इसके साथ ही अच्छे और बुरे की भी समझ हो जाती है। भगवत गीता पढ़ने से व्यक्ति का आत्मबल बढ़ता है और व्यक्ति लीडर बनकर साहसी तरीके से जीवन यापन करता है और अपने कर्तव्य पथ पर आगे बढ़ता जाता है। उसे आगे बढ़ने के लिए अपने उद्देश्य की जानकारी सहज प्राप्त होती है रोजाना गीता पढ़ने से शरीर और दिमाग में समा सकारात्मक ऊर्जा विकसित होती है। साथ ही आपके घर परिवार में सुख और शांति प्रदान करने वाली होती है गीता का पाठ करने से ग्रह शांति के सांसद ग्रहों की शांति भी मिलती है, यदि आपकी कुंडली में किसी तरह का दोष है तो, आप भगवतगीता पढ़कर इसे दोस्तों को दूर कर सकते हैं।

Similar Posts