वर्तमान विषयों पर हिंदी में निबंध Hindi Essay, Essay on Current Topics

वर्तमान विषयों पर हिंदी में निबंध Hindi Essay, Essay on Current Topics

वर्तमान विषयों पर हिंदी में निबंध Hindi Essay, Essay on Current Topics

Essay on Current Topics:विद्यार्थियों को बक्शा पांचवी से लेकर 10वीं तक कई विषय पर निबंध लेखन का कार्य दिया जाता है और निबंध लेखन से जुड़ी हुई कई तरह की सामग्री भी अब अलग-अलग विषय पर मिल जाएगी। वहीं निबंध लेखन का सवाल हर परीक्षा में विशेष रुप से पूछा जाता है।

वर्तमान विषयों पर निबंध

वर्तमान विषयों पर हिंदी में निबंध Hindi Essay, Essay on Current Topics

इसी को देखते हुए हमने आज आपके लिए वर्तमान विषय पर हिंदी में कुछ निबंध बताएं हैं, जिन्हें आप अपने परीक्षाओं में लिख सकते हैं। इन निबंधों की एक पीडीएफ फाइल भी आप यहां से डाउनलोड कर सकते हैं। वही रे आप भी किसी वर्तमान विषय पर निबंध लिखना चाहते हैं और आपको इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है कि, निबंध को कैसे लिखा जाए तो हम, आपको इसकी संपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। आप यहां से देख सकते हैं कि निबंधों को किस तरह से सूची बार लिखा जा सकता है। यह अक्सर परीक्षाओं में पूछे जाते हैं और उन पर लिखने का भी प्रयास किया जाता है।

निबंध रचना से पूर्व निबंध के इन प्रमुख अंगों को ध्यान में रखें:

प्रारंभ – जैसा कि आप जानते है, कोई भी कार्य अगर अच्छे से प्रारंभ किया जाए तो उसके सफल हाने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए लेख की शुरूआत भी अच्छी ढंग से करें। प्रारंभ छोटा रखे तथा जिस विषय पर आप लेख लिख रहे है उसकी उपयोगिता व महत्व को कम शब्दों में पहले ही बता दे। जिससे पाठक आकर्षित हो सके।

See also  ज्‍योतिष की महत्‍वपूर्ण पुस्‍तकें Astrology Books PDF File Download

उत्कर्ष – यह निबंध का वह भाग होता है, जहां आप विस्तार से अपने मुख्य विषय को लिखते है। इस में आपके महत्वपूर्ण तर्क तथा तथ्य शामिल होते है। उत्कर्ष से लेख को एक नया रूप मिलता है।

चरमोत्कर्ष – यह निबंध का सबसे महत्वपूर्ण भाग है। हमारे topic का मूल मुद्दा यही सुस्पष्ट होता है।

अपकर्ष – ये भाग लेख का सबसे कठिन हिस्सा होता है, क्योंकि यहां विषय को विस्तार नहीं दिया जाता बल्कि समेटा जाता है।

उपसंहार – अंत में पाठकों का ध्यान अपने विषय के मुख्य बिंदु पर आकर्षित करने का प्रयास करें।

भारत की विविध समस्याएँ

बढ़ती जनसंख्या एक विकट समस्या
महँगाई की समस्या
प्रदूषण की समस्या: कारण और निदान अथवा दिन-दिन बढ़ता प्रदूषण अथवा महानगरों में बढ़ता प्रदूषण
नशाखोरी-एक अभिशाप अथवा मादक द्रव्य सेवन-समस्या और समाधान
बेरोजगारी की समस्या
भ्रष्टाचार का दानव
एड्स की चुनौती अथवा एड्स-जानकारी ही बचाव
सतीप्रथा-एक अभिशाप
दहेज प्रथा: एक अभिशाप
आतंकवाद की समस्या और समाधान
महानगरीय जीवन: अभिशाप या वरदान
बढ़ती जनसंख्या: सिकुड़ते साधन
निरक्षरता – एक अभिशाप

विज्ञान संबंधी निबंध

सूचना प्रौद्योगिकी क्रांति और भारत अथवा सूचना प्रौद्योगिकी की उपलब्धियाँ
कंप्यूटर: आज की आवश्यकता
अंतरिक्ष विज्ञान और भारत
केबल संस्कृति और भारतीय समाज
मानव और विज्ञान
विज्ञान वरदान है या अभिशाप

नारी संबंधी निबंध

आज की भारतीय नारी
भारतीय समाज में नारी का स्थान
नारी शिक्षा – आज की आवश्यकता
महिलाओं का राजनीति में प्रवेश: एक चुनौती

भारत संबंधी निबंध

सारे जहां से अच्छा हिंदुस्ताँ हमारा
स्वतंत्र भारत की उपलब्धियाँ
भारत की राष्ट्रभाषा अथवा हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
भारत की ऋतुएँ
ग्रामीण जीवन अथवा भारतीय गाँव
परमाणु शक्ति संपन्न भारत
सांप्रदायिकता: भारत की एकता को खतरा
यदि मैं भारत का प्रधानमंत्री होता
इक्कीसवीं सदी का भारत
भारतीय किसान
भारत गणराज्य के बारहवें राष्ट्रपति – डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम
स्वदेश प्रेम अथवा देश-भक्ति अथवा ”वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं”

See also  Education Story in Hindi सर्वश्रेष्ठ नैतिक शिक्षा की कहानी इन हिंदी में, देखे

विद्यार्थी और युवा पीढ़ी से संबंधित निबंध
विद्यार्थी और अनुशासन
आदर्श विद्यार्थी
विद्यार्थी और राजनीति अथवा राजनीति में छात्र-प्रवेश उचित या अनुचित
छात्र अंसतोष- कारण और समाधान

समाचार-पत्र/प्रेस/विज्ञापन
समाचार-पत्र और उनकी उपयोगिता
विज्ञान: लाभ और हानियाँ

विविध निबंध
वर्तमान युग में शिक्षा-प्रसार के विभिन्न साधन
भाग्य और पुरूषार्थ
शिक्षा और व्यवसाय
धर्म निरपेक्षता और राष्ट्रीय एकता
हमारे राष्ट्रीय पर्व
आदर्श मित्र
किसी मेले का आँखों देखा दृश्य
चाँदनी रात में नौका-विहार
देशाटन
पुस्तक मेले तथा उनकी सार्थकता
व्यायाम और स्वास्थ्य
यदि मैं शिक्षा-मंत्री होता
भारत का प्राकृतिक सौंदर्य
बाल मजदूरी: एक अभिशाप
दूरदर्शन: विकास या विनाश
मेरी पर्वतीय स्थान की यात्रा अथवा मेरी कश्मीर यात्रा

ध्यान दे: धीरे-धीरे निबंध लेखन का स्थान अनुच्छेद लेखन ने ले लिया है। इसमें आपको विचार-बिंदु दिये जाते हैं जिसके आस-पास आपको संबंधित विषय पर अपना अनुच्छेद लगभग 200 शब्दों में पुरा करना होता है।

Similar Posts