गरुड़ पुराण

गरुड़ पुराण संपूर्ण कथा PDF | Original Garud Puran PDF In Hindi Download

गरुड़ पुराण संपूर्ण कथा PDF | Original Garud Puran PDF In Hindi Download

Garud Puran PDF: गरुड़ पुराण के बारे में हम सभी जानते हैं कि, यह पुराण आपको स्वर्ग नर्क और पाप होने के बारे में सभी तरह की जानकारी प्रदान करता है। हिंदू ग्रंथों में इस पुराण की भी काफी महिमा बताई गई है, इसमें आपको ज्ञान नीति नियम और धर्म की बातें सिखाई जाती है। साथ ही गरुड़ पुराण में एक और मौत का रहस्य से दूसरी और जीवन का रहस्य छुपा हुआ है।

गरुड़ पुराण

गरुड़ पुराण

गरुड़ पुराण हमें कई तरह की शिक्षाएं में मिलती है। मृत्यु के पहले और बाद की स्थिति के बारे में यह ग्रंथ में जानकारी प्रदान करता है, प्रत्येक व्यक्ति को या कुरान पढ़ना चाहिए फिर सुनना चाहिए। गरुड़ पुराण प्रसिद्ध धार्मिक ग्रंथों में से एक है। यह 18 पुराणों में से इसे एक माना जाता है। गरुड़ पुराण में हमारे जीवन को लेकर कई बातें बताई गई है।

गरुड़ पुराण का महत्व

अन्य पुराण की तरह गरुड़ पुराण का भी काफी महत्व है। गरुड़ पुराण हिंदू धर्म का महत्वपूर्ण ग्रंथ है। यह 18 महापुराणों में एक है। गरुड़ पुराण में 19 हजार श्लोक हैं, जिसके सात हजार श्लोक में जीवन से जुड़ी गूढ़ बातों को बताया गया है। इसमें आप ज्ञान, धर्म, नीति, रहस्य, आत्मा, स्वर्ग और नरक का वर्णन मिलता है। गरुड पुराण का पाठ पढ़ने या सुनने से व्यक्ति को आत्मज्ञान सदाचार, भक्ति, ज्ञान, यज्ञ, तप और तीर्थ आदि के महत्व के बारे में जान सकता है। इसलिए हर व्यक्ति को इसके बारे में जरूर जानना चाहिए और इसे एक बार जरुर सुनना या पढना चाहिए।

See also  अपठित गद्यांश व पद्यांश अभ्यास कार्य | Unseen Passage PDF

किसे और कब पढ़ना चाहिए गरुड़ पुराण

वेसे तो आप इसे कभी भी पढ़ सकते है, लेकिन हिंदू धर्म में घर पर किसी परिजन की मृत्यु के पश्चात गरुड़ पुराण का पाठ कराया जाता है। मान्यता है कि घर पर 13 दिनों तक गरुड़ पुराण का पाठ कराने से मृतक की आत्मा को सद्गति प्राप्त होती है। लेकिन गरुड़ पुराण पाठ किसी परिजन की मृत्यु के पहले या कभी भी पढ़ा जा सकता है। जो व्यक्ति इसे पढ़ने की इच्छा रखता है वह इसे पढ़ सकता है। पवित्रता और शुद्ध मन के साथ गरुड़ पुराण का पाठ किया जा सकता है। इसका पाठ करने से सामान्य मनुष्य को यह पता चलता है कि कौन सा रास्ता धर्म और कौन अधर्म का है।

गरुड़ पुराण में बताया गया है, की शत्रुओं से निपटने के लिए सतर्कता और चतुरता सहारा लेना चाहिए। शत्रु लगातार हमें नुकसान पहुंचाने का प्रयास करते रहते हैं। ऐसे में यदि हम चतुरता नहीं दिखाएंगे तो नुकसान उठाएंगे। इसलिए जैसा शत्रु है, उसके अनुसार नीति का उपयोग करके उसे काबू में रखा जाना चाहिए।

गरुड़ पुराण में कितने श्लोक है?

गरुड़ पुराण एक वैष्णव पुराण है और परंपरा के अनुसार इसमें 19,000 श्लोक (श्लोक) हैं। हालाँकि, आधुनिक युग में जो पांडुलिपियाँ बची हैं, उनमें लगभग आठ हज़ार छंद संरक्षित हैं. यदि आप अमीर, धनवान या सौभाग्यशाली बनना चाहते हैं तो जरूरी है कि आप साफ-सुथरे, सुंदर और सुगंधित कपड़े पहने। गरुण पुराण के अनुसार उन लोगों का सौभाग्य नष्ट हो जाता है जो गंदे वस्त्र पहनते हैं।

क्या हम घर पर गरुड़ पुराण पढ़ सकते हैं?

समय के साथ कुछ लोगों में यह धारणा बन गई कि गरुड़ पुराण को घर में नहीं रखना चाहिए। श्राद्ध और पितृ आदि कार्यों के दौरान ही इसका श्रवण करना चाहिए । यह मान्यता अत्यधिक भ्रामक और अंधविश्वास से भरी है।

Similar Posts