देश प्रेम Desh Prem 

देश प्रेम/देशभक्ति पर निबंध Patriotism Essay in Hindi

देश प्रेम/देशभक्ति पर निबंध Patriotism Essay in Hindi

Patriotism Essay in Hindi किसी भी इंसान के जीवन में उसके देश के प्रति देशभक्ति उसको वफादारी सिखाती है और वह अपने देश की सेवा के लिए अपनी जान तक निछावर कर देता है। ऐसे लोगों को देशभक्त कहा जाता है। देशभक्ति की भावना आज हर एक इंसान में होना चाहिए, देशभक्ति की भावना ही लोगों को एक दूसरे के करीब लाती है।

देश प्रेम Desh Prem

देश प्रेम Desh Prem 

हमें देश के साथ साथ वहां रहने वाले लोगों के विकास और देश के विकास को भी बढ़ावा देना चाहिए और उनके बारे में भी सोचना चाहिए। किसी भी व्यक्ति का देश के प्रति अमूल्य प्रेम और भक्ति देश भक्ति की भावना को परिभाषित करती है, जो लोग सच्चे देशभक्त होते है, हमें अपने देश के प्रति और उसके निर्माण के लिए कुछ भी कर गुजरने को तैयार हो जाते हैं।

देश प्रेम लेखन

स्कूलों में बच्चों द्वारा कई बार देश प्रेम पर निबंध भी लिखने के लिए कहा जाता है, इस निबंध में देश प्रेम से संदर्भित सभी तरह की बातों को सम्मिलित किया जाता है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए भी मददगार होता है। आज हम आपको कुछ ऐसे ही निबंध बताने जा रहे हैं जो कि, देश प्रेम पर आधारित थे जिनका उपयोग आप अपने परीक्षाओं में कर सकते हैं।

देश प्रेम पर निबंध

देश प्रेम पर निबंध 200 शब्द (Rashtra Prem Par Nibandh)

अपने देश से निस्वार्थ तौर पर प्रेम देश प्रेम चलाता है। देश के प्रति अच्छी भावना की देश प्रेम को बढ़ावा दे रही है। देश प्रेम को अपने देश के प्रति देशभक्ति की वफादारी से परिभाषित किया जा सकता है। किसी भी व्यक्ति का देश के प्रति प्रेम और भक्ति की भावना देश प्रेम या देश भक्ति चलाता है। भारत के लोगों के बीच देशभक्ति की भावनाएं ब्रिटिश शासन काल में देखने को मिली थी।

See also  मुहावरा इन हिंदी 100, हिंदी मुहावरे संबंधित प्रश्न और अर्थ के साथ,100+ हिन्दी मुहावरे

ब्रिटिश शासन काल में देशभक्ति की भावना उमड़ने की वजह से ही देश आजाद हुआ था। लेकिन आज के समय में आज की युवा पीढ़ी के अंदर देशभक्ति की भावना और देश प्रेम की भावना बहुत कम है। क्योंकि लोग एक दूसरे से प्रतिस्पर्धा के चलते देश प्रेम को बिल्कुल भूल जा रहे हैं।

आज के समय में व्यक्ति अपने जीवन को अपने काम में उलझा रहा है। देश भक्ति और देश प्रेम से दूर रहने का प्रयास कर रहा है। देशवासियों के लिए एक संदेश कि हम सभी को एक साथ भाई चारे के साथ और प्रेम के साथ रहना चाहिए। देश का हर व्यक्ति देश हित के लिए सोचेगा तो एक दिन हमारा देश अन्य देशों के मुकाबले मजबूत और कई गुना आगे बढ़ेगा।

देश में देशभक्ति और देशप्रेम को बढ़ावा देना बहुत ही जरूरी है अन्यथा समय के साथ-साथ देशभक्ति और देशप्रेम लुप्त हो जाएगा। युवा जनरेशन अपने काम में इतनी उलझी हुई है कि उन्हें अन्य लोगों से मतलब ही नहीं है। इतना ही नहीं लोग प्रतिस्पर्धा के चलते भी स्वार्थी होते जा रहे हैं। हमें अपने जीवन को निस्वार्थ करना चाहिए और देशप्रेम और देश भक्ति में अपना मुख्य योगदान देना चाहिए।

निबंध 1 (300 शब्द)

प्रस्तावना

देशभक्ति, देश के प्रति प्यार और सम्मान की भावना है। देशभक्त अपने देश के प्रति निःस्वार्थ प्रेम तथा उसपे गर्व करने के लिए जाने जाते हैं। दुनिया के हर देश में उनके देशभक्तों का एक समूह होता है, जो अपने देश के विकास के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं। हालांकि, देशभक्ति की भावना हर क्षेत्र में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के साथ-साथ लोगों की बदलती जीवनशैली के कारण लुप्त होती जा रही है।

See also  MP Board 10th Maths Paper PDF

देशभक्ति का अनुभव स्थापित किया जाना चाहिए

अतीत में, विशेष रूप से ब्रिटिश शासनकाल के दौरान, कई लोग अपने देशवासियों के अंदर देशभक्ति की भावना पैदा करने के लिए आगे आए। देशभक्तों ने बैठकों का आयोजन किया तथा उनके आसपास के लोगों को प्रेरित करने के लिए भाषण देते हुए कई उदाहरणों का उपयोग किया। उसी प्रकार, जब बच्चे छोटें हो तभी से उनके अन्दर देशभक्ति की भावना पैदा की जानी चाहिए। स्कूलों और कॉलेजों में भी बच्चों के अन्दर अपने देश के प्रति प्यार और सम्मान की भावना को स्थापित करना चाहिए।

कई संस्थान 15 अगस्त और 26 जनवरी को समारोह एवं कार्यक्रम आयोजित करते हैं, उनमें देशभक्ति गीत गाए जाते हैं और उस दौरान देशभक्ति की भावना आसपास के पूरे देश को घेरी रहती है। लेकिन क्या यह असली देशभक्ति है? नहीं! ऐसा वातावरण सामान्य रूप से सदैव होना चाहिए ना कि केवल इन विशेष तिथियों के आसपास ही। तभी जाके ये भावनाएं हमेशा के लिए हर नागरिक के दिल में बैठ जाएगी।

वो देश निश्चित रूप से बेहतर हो जाता है, जहां के युवा अपने देश से प्यार करते है तथा उस देश की सामाजिक और आर्थिक स्थिति को सुधारने की दिशा में कार्य करते है।

निष्कर्ष

एक सच्चा देशभक्त वह है जो अपने देश की स्थिती सुधारने में जितना हो सके उतनी कड़ी मेहनत कर अपना पुर्ण योगदान दे सके। एक सच्चा देशभक्त न केवल अपने देश के निर्माण की दिशा में काम करता है बल्कि उसके आस-पास के लोगों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करता है।

See also  रस किसे कहते हैं, रस के प्रकार और इसके अंग | Ras kya hai

देश प्रेम पर निबंध 250 शब्द (Desh Prem Par Nibandh in Hindi)

देश प्रेम दो शब्दों के मिलन से बना है, जिस का तात्पर्य है अपनी मातृभूमि से प्रेम करना। चाहे प्राणी हो या मनुष्य हर जीव अपनी जन्भूमि के साथ एक अनोखे रिश्ते से जुड़ा हुआ होता है। अपनी मातृभूमि हर व्यक्ति को प्राणों से भी प्यारी होती है क्योंकि उसका जन्म और लालनपालन देश की मिट्टी में हुआ होता है।

किसी ने खूब कहा है ‘मां और मातृभूमि तो स्वर्ग से भी महान है’। देश प्रेम इस दुनिया का सबसे श्रेष्ठ प्रेम माना जाता है क्योंकि इस प्रेम में सबसे पहले देश का हित आता है बाद में सब कुछ। देश प्रेम को इस दुनिया का सबसे श्रेष्ठ त्याग भी माना जाता है क्योंकि देश के लिए अपना घर, अपना परिवार तथा अपनी जान तक न्योछार करनी पड़ती है।

देशभक्ति दुनिया की सबसे शुद्ध भावनाओं में से एक है। क्योंकि एक देशभक्त अपने देश के लिए निस्वार्थ भाव से देश के कल्याण के काम करता है और बदले ने कुछ भी वसूल नहीं करता। स्वतंत्रता संग्राम ने विभिन्न देश प्रेमियों को जन्म दिया, जिसकी हिम्मत और बहादुरी के चर्चे आज भी होते है।

रानी लक्ष्मी बाई, शिवाजी, गांधी जी, सुभाष चंद्र बोस, शहीद भगत सिंह और मौलाना आजाद जैसे कई देश प्रेमियों है, जिन्होंने देश के प्रति अपना जीवन समर्पित कर दिया और अपने देश के प्यार के लिए शहीद हो गए।

देश प्रेम की वास्तविक भावना के साथ जिम्मेदारी की भावना आती है। देश प्रेम भाईचारे को बढ़ावा देता है। देश प्रेम देशवासियों के बीच भ्रष्टाचार और स्वार्थ को दूर करने में भी मदद करती है। देश के नागरिकों में जितना अधिक देश प्रेम होगा इतना अधिक देश मजबूत बनेगा और विकासपथ पर आगे बढ़ेगा।a

 

Similar Posts