शनिदेव मंत्र

शनिदेव मंत्र | Shani Dev Mantra Hindi PDF File Download

शनिदेव मंत्र | Shani Dev Mantra Hindi PDF File Download

Shani Dev Mantra: हिंदू धर्म के अनुसार शनिवार का दिन शनि देवता का दिन माना जाता है और इस दिन शनि देव की पूजा भी की जाती है. शनिवार के दिन यदि आपको शनिदेव को प्रसन्न करना है तो, उसके कई सारे उपाय भी है शनिदेव जिन लोगों पर प्रसन्न होते हैं.

शनिदेव मंत्र

शनिदेव मंत्र

उन लोगों का कोई भी काम कभी नहीं रुकता है और उन्हें किसी तरह की कोई समस्या नहीं आती है. शनि देव जी इन लोगों पर प्रसन्न हो जाते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है शांति कुंडली में यदि शनि की शुभ स्थिति से होती है तो, शुभ स्थिति से हर व्यक्ति हर काम में सफल हो जाता है. वही शनि प्रसन्न हो तो लोगों के बने हुए काम भी बिगड़ जाते हैं और हर काम में अड़चन आने लगती है.

शनिदेव को प्रसन्न करने के कई उपाय

शनिदेव को प्रसन्न करने के कई उपाय बताए गए हैं, इसीलिए शनिदेव के मंत्रों का इसमें विशेष महत्व होता है. इन मंत्रों के जाप से जीवन में हर कष्ट को दूर किया जा सकता है. इसके साथ ही है कोई भी व्यक्ति व्यापार नौकरी मैं लाभ प्राप्त कर सकता है. आज हम आपको इस लेख में शनि महाराज के कई ऐसे मंत्रों का बताने जा रहे हैं, जिसे आप शनि के प्रकोप प्रकोप से बच सकते हैं, वह जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं.

See also  राम रक्षा स्तोत्र हिंदी PDF | Ram Raksha Stotra PDF Hindi - श्री राम रक्षा स्तोत्र

शनी देव को न्याय का देवता भी माना जाता है, शनि देव को यह उपाधि देवों के देव महादेव ने दी है। शनि देव व्यक्ति को उसके कर्म के अनुसार फल देते हैं। जीवन में सुख, शांति, समृद्धि आदि के लिए शनि देव की कृपा बहुत जरूरी है। जिस भी भक्त को इनका आशीर्वाद मिल जाए, उसके जीवन के दुःख दूर हो जाते हैं।

हम सभी जानते है, की शनि देव किसी के साथ अन्याय नहीं होने देते हैं, बशर्तें आपको छल, कपट, ईर्ष्या, द्वेष आदि बुराइयों से दूर रहना चाहिए। शनि दोष से मुक्ति पाने के लिए भी शनि देव की पूजा अर्चना करनी चाहिए। शनि देव को प्रसन्न करने के लिए कुछ मंत्र हैं, जिनका जाप करना चाहिए। आज शनि जयंती है, यह अच्छा अवसर है शनि देव की कृपा प्राप्त करने का।

शनि मंत्र करेंगे शनि देव को प्रसन्न

शनि श्याम वर्ण हैं इसलिए उन्हें काला रंग बहुत प्रिय है। शनि कृपा की इच्छा रखने वाले हर व्यक्ति को शनिवार के दिन काले कपड़े पहनने चाहिए। ललाट पर काले रंग का तिलक लगाना चाहिए। संभव हो तो अंतर्वस्त्र भी काले पहनें। स्नान के जल में थोड़े से काले रंग के तिल डालकर नहाएं और इनका दान भी करें।

कुछ लोग मानते हैं की शनिवार के दिन यात्रा नहीं करनी चाहिए। अवश्यक हो तो पूर्व दिशा को छोड़कर अन्य किसी भी दिशा में यात्रा कर सकते हैं। शनिवार को इस डायरेक्शन में दिशा शूल होता है।

 

शनि देव को करें इन मंत्रों से प्रसन्न

 

शनि देव का बीज मंत्र

See also  सम्पूर्ण बजरंग बाण PDF | बजरंग बाण पाठ – दोहा और चौपाई | Bajrang Baan PDF in Hindi. 

 

ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः।

 

शनि गायत्री मंत्र

 

ऊँ भगभवाय विद्महैं मृत्युरुपाय धीमहि तन्नो शनिः प्रचोद्यात्

 

सामान्य मंत्र

 

ॐ शं शनैश्चराय नमः।

 

शनि का पौराणिक मंत्र

 

ऊँ ह्रिं नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम। छाया मार्तण्डसम्भूतं तं नमामि शनैश्चरम्।।

 

शनि का वैदिक मंत्र

 

ऊँ शन्नोदेवीर- भिष्टयऽआपो भवन्तु पीतये शंय्योरभिस्त्रवन्तुनः।

 

साढ़ेसाती के प्रभाव से बचने का शनि मंत्र

 

ऊँ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम ।

 

उर्वारुक मिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मा मृतात ।

 

ॐ शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये।शंयोरभिश्रवन्तु नः। ऊँ शं शनैश्चराय नमः।

 

ऊँ नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम्‌।छायामार्तण्डसम्भूतं तं नमामि शनैश्चरम्‌।

 

शनि मंत्र के जाप की विधी

 

शनिवार की शाम को स्नान करने के बाद घर में साफ स्थान पर शनिदेव की मूर्ति या चित्र स्थापित करें. इसके बाद शनि देव को नीले फूल, काला कपड़ा, काली उड़द और काले तिल अर्पित करे. उन्हें मीठी पूरी का भोग लगाएं. इसके बाद काली तुलसी की माला से 108 बार किसी भी मंत्र का जाप करें. काली तुलसी की माला के जाप से शनि देव शीघ्र प्रसन्न होते हैं और सारी परेशानियां दूर करते हैं.

Shani Dev Mantra Hindi PDF File Download

Download Link

Similar Posts